भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह राख है / कुमार अंबुज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इसका रंग राख का रंग है
इसका वजन राख का वजन है
जब सारी गंध उड़ जाती हैं
तो राख की गंध बची रहती है

इसे मुट्‍ठी में भरो
यह एक देह है
इसे छोड़ो, यह धीरे-धीरे झरेगी
और हथेली में, लकीरों में बची रहेगी

हर क्रूरता, अपमान, प्रेम और संपूर्णता के बाद
यही राख है
जो उड़कर आँखों में भरती है

इसे नदी में फेंक दो या खेतों में
इसे पहाड़ों पर फेंक दो या समुद्र में
यह हमेशा बनी रहती है
खून में, हड्‍डियों में, नींद में