भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह वादा करो / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह वादा करो
                  कभी ना उदास होंगे;
                                         सृष्टि के कष्ट चाहे सब साथ होंगे.

प्रसन्नता के क्षणों को
                             एकांत से ना सजाना;
                                              हम ना सही, कुछ लोग खास होंगे.

दुःख में स्वयं को
                     कभी अकेला ना समझना;
                                                 दिल के तेरे हम पास-आस होंगे.

देखना कभी ना
                    नज़रों को उठा कर;
                                              कुछ अश्रु, कुछ प्रश्नों के वास होंगे.

तन्हा ना घूमना
                    जंगल में तन्हाइयों के ;
                                             कुछ टूटे फूटे शब्द मेरे तेरे पास होंगे.