भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह समय है आँख के शोले बुझाने का / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह समय है आँख के शोले बुझाने का।
यह समय है वनस्पतियों के नहाने का।

तक्षकों के हाथ में ही यज्ञ सारे हैं
यह समय जनमेजयों के हार जाने का।

तुम घिरे हो प्यार के निश्चिंत पानी में
यह समय है होष के दीपक सिराने का।

मित्रता के वृक्ष पर फल पक गए होंगे
यह समय है साख की षाखें हिलाने का।

वक़्त की बंदिष नहीं है तानसेनों पर
कुल समय है राग दरबारी सुनाने का।

अब नहीं तो कब फटेंगे षोर के बादल
यह समय है धूप की धुन गुनगुनाने का।

फिर समय के होठ पर मझधार के किस्से
फिर समय है तटस्थों के तिलमिलाने का।

गीत गाने का समय फिर लौट आएगा
यह समय है शब्द को पत्थर बनाने का।