भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह है हमारी चौहद्दी / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी बाढ़ की चोट
कभी सूखे की मार
कभी पाला -पाथर की वृष्टि
कभी रोगों की भरमार।

बँटाई पर खेत
लोगों का तगादा
सिंचाई और पोत
जिलेदार का
जेल की हवा खिलाने का वादा।

डेहरी का सफाया
पड़ोसी का इन्कार
बनिये का बकाया
बन्द सारे द्वार।

चूता छप्पर
दरकी दीवार
ठिठुरे मवेशी
सहमा परि‍वार।
भाई की पढ़ाई
बीमार मा‍ँ की दवाई
जवान बहन की सगाई
फटे कपडों में लुगाई।

अ‍ँटकी मजूरी
कर्ज में जि‍न्दगी
तबाही ही तबाही
बरबादी ही बरबादी
यह है हमारी चौहद्दी!