भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यात्रा / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर से यात्रा पर निकला

अपने सारे दुखों को

एक सन्दूक मे बन्द कर

कन्धों पर विश्वासों का एक झोला धर

यात्रा से लौटूंगा तो

झोला सुखों से भर कर लाऊंगा

घर-परिवार, प्रियजन

गली-मौहल्ले के लोगों में बाँटूंगा

लेकिन जब

यात्रा से लौटकर

घर आया

झोला खाली का खाली था

हाँ, दु:खों के सन्दूक को

पहले से कहीं अधिक भारी पाया

लेकिन मैं ये दु:ख

अकेले ही क्यों सहूँ

सन्दूक को आराम से खोलूंगा

और सारे अतिरिक्त दु:ख

घर-परिवार, प्रियजन

गली-मौहल्ले में बाँट दूंगा ।