भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादों की डोर / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे जीवन की गरिमा में
स्मृतियों का हाथ
इन मधुर स्मृतियों के
आगे झुकता है मेरा माथ
नियति ने काट दिये थे
मेरी उड़ान के डैने
जीवन ने जो दे डाला
वह पिया हलाहल मैंने
उस कालकूट को पीकर
टूटे पंखों से उड़कर
वह मेरी कल्पनी विहगी
आई अम्बर को छूकर
बादल आँखों में भरकर
आंचल में भरकर तारे
आँसू के जलनिधि खारे
मैं चुगती रही अंगारे
तप तप कर स्वर्ण बनी हूँ
आँसू से धुली-धुली हूँ
कविता में जीवन रस हूँ
बन शबनम धुली-धुली हूँ
झिलमिल करता जो आँसू
है मेरी आँख के तल में
जब लौट चले थे प्रेरक
झलका या यह उस पल में
यह मधुर स्मृति सा आँसू
मैं कभी न ढुलकाऊँगी
ले तरल दृष्टि करुणामयी
जीवन रस छलकाऊँगी
अनुराग असीम सुंदर है-मैं गाऊँगी, गाऊँगी
यादों की डोर पकड़ कर मैं ऊपर उठ जाऊँगी।