भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादों की महक / जितेंद्र मोहन पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिखेगी रंगीन मिलन—पलों की झलक
दर्पण में स्वप्नों के ।
फैलेगी मधुर यादों की महक,
झोंको से पवनों के ।।

मन छू लेंगी बूंदें प्यार की
गिरकर छलकती गागर से।
अविराम बहेगी अश्रुधारा
गहन नयन सागर से ।।

गूंजेगा कर्ण—मंदिर में
खनक नाद लय आरती
भ्रम होगा जैसे तू
दे आवाज पुकारती ।।