भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यारी के घर दूर / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यारी के घर दूर-दूर हैं, यारी के घर दूर |
रस्ते में खड्डे हैं गहरे, पड़े से चकनाचूर || यारी...
मंजिल यारी की जो चावे, संत शरण में वह नर आवे,
शरणागत की लज्जा राखें, मंजिल मिले जरुर || यारी...
अनगिनती नर मरे मर गये, देखा रस्ता यार डर गये,
यार की मंजिल प्यार से पाई, चमका उनका नूर || यारी...
कई एक झूठे कायर डोलें, शुरू शुरू में प्यार से बोले,
स्वारथ रत बेईमानों के सिर, पड़ जाती है धूर || यारी...
कहे शिवदीन राम भज अंधे, सच्चे मंजिल पाये बन्दे,
झूटे मजनूं बन-बन डोले, करते बहुत गरूर || यारी...