भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यार कमाल हुए, गाल गुलाल हुए / सत्य मोहन वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यार कमाल हुए, गाल गुलाल हुए,
दहके टेसू वन, आँगन लाल हुए,
बिखरे कुंतल मेघ, जी के काल हुए,
फागुन लूट गया, हम कंगाल हुए,
नखत देह दमके, नैन निहाल हुए,
परिचय मौन रहे, व्यर्थ सवाल हुए,
रस की स्पर्धा में मौर रसाल हुए..