भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यार निकला है आफ़्ताब की तरह / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यार निकला है आफ़्ताब की तरह
कौन सी अब रही है ख़्वाक तरह

चश्म-ए-मस्त-ए-सियह की याद मुदाम
शीशा-ए-दिल में है शराब की तरह

कभू ख़ामोश हूँ कभू गोया
सरनविश्त है मिरी किताब की तरह

पस्त हो चल मिसाल दरिया के
ख़ेमा बरपा न कर हबाब की तरह

पा-बोसी कूँ उस का है गर शौक़
क़द कूँ अपने बना रिकाब की तरह

साफ़ दिल है तो आ कुदूरत छोड़
मिल हर इक रंग बीच आब की तरह

पीवे पीवे है शबाब ‘हातिम’ साथ
क्यूँ न दुश्मन जले कबाब की तरह