भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यार है आइना है शाना है / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यार है आइना है शाना है
चश्म-ए-बद-दूर क्या ज़माना है

झाँकने ताकने का वक़्त गया
अब वो हम हैं न वो ज़माना है

वहशत-अँगेज़ है नसीम-ए-बहार
क्या जुनूँ-ख़ेज़ ये ज़माना है

साक़िया अर्श पर है अपना दिमाग़
सर है और तेरा आस्ताना है

दाग़-ए-हसरत से दिल हो मालामाल
यही दौलत यही ख़ज़ाना है

महशरिस्तान-ए-आरज़ू-ए-विसाल
दिल है क्या एक कार-ख़ाना है

लो बुझा चाहता है दिल का कँवल
ख़त्म अब इश्क़ का फ़साना है

क्या कहीं उड़ के जा नहीं सकते
वो चमन है वो आशियाना है

'यास' अब आप में न आएँगे
वस्ल इक मौत का बहाना है