भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

या ब्रज मे कछु देखो री टोना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

या ब्रज में कछु देखो री टोना।
ले मटकी सिर चली गुजरिया
आगे मिले नन्द जी को छोना। या ब्रज...
दधि को नाम बिसर गयो प्यारे
ले-ले रे कोई श्याम सलोना। या ब्रज...
वृन्दावन की कुंज गलिन में,
आँख लगाय गयो मन मोहना। या ब्रज...
मीरा के प्रभु गिरधर नागर,
सुन्दर श्याम सुंदर है सलोना। या ब्रज...