भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

युवकसँ / बलदेव मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरु हरु युवजन देश-कलेश
देश दशा जनितहिं की सभजन सपनहुँ नहि सुख लेश।
मैथिल जाति समुन्नति कारण के सह आज कलेश।
सब जन स्वारथहीमे आरत, गारत भारत देश॥
ककरा कहब सुनत के मन दय, के कर परम निदेश?
सर्व समुन्नति युवजन ऊपर निर्भर अछि अवशेष॥
श्री बलदेव देवसेवे बल करु किछु देश विशेष।
आलस त्यागि, जागि सभ सज्जन करु करु हित उपदेश॥