भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यूँ न रह रह के हमें तरसाइए / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूँ न रह रह के हमें तरसाइए ।
आइए, आ जाइए, आ जाइए ।
 
फिर वही दानिश्ता[1] ठोकर खाइए,
फिर मिरे आग़ोश में गिर जाइए ।
 
मेरी दुनिया मुन्तज़िर है आपकी,
अपनी दुनिया छोड़ कर आ जाइए ।
 
ये हवा, 'साग़र' ये हल्की चाँदनी,
जी में आता है यहीं मर जाइए ।

शब्दार्थ
  1. जान-बूझकर