भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यूँ ही उदास है दिल बेकरार थोड़े ही है / जतिन्दर परवाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूँ ही उदास है दिल बेकरार थोड़े ही है
मुझे किसी का कोई इंतज़ार थोड़े ही है

नजर मिला के भी तुम से गिला करूँ कैसे
तुम्हारे दिल पे मेरा इख़्तियार थोड़े ही है

मुझे भी नींद न आए उसे भी चैन न हो
हमारे बीच भला इतना प्यार थोड़े ही है

ख़िज़ा ही ढूंढ़ती रहती है दर-ब-दर मुझको
मेरी तलाश मैं पागल बहार थोड़े ही है

न जाने कौन यहाँ साँप बन के डस जाए
यहाँ किसी का कोई ऐतबार थोड़े ही है