भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये जग ही तो धर्मशाल है / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये जग ही तो धर्मशाल है।
है सराय ये सोच मुसाफिर रहना दो दिन क्या खयाल है।
इक आवे, आवे इक जावे, ना कोई रहा न रहने पावे,
फिर मुटाव मन क्यूं करता है, आज गया कोई जाय काल है।
कायम यहां मुकाम नहीं है सुबह यहां तो शाम कहीं है,
करता क्यो तकरार किसी से दुखदाई ये तो कुचाल है।
हाथ जौर चल यार सभी से चले चलो कर प्यार सभी से,
वरना लोग कहे था खोटा ये तो जुलमी जगत जाल है,
कहे शिवदीन समझ ना आवे क्या कमाल है ! ये कमाल है।