भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये तो बुरी बात है / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आधी सवारी कह देते हो
बच्चों को
ये तो बुरी बात है।
बस में न सीट कभी देते हो
बच्चों को
ये तो बुरी बात है।

कहने का मौका न देते हो
बच्चों का
ये तो बुरी बात है।
बार-बार डाँट-डपट देते हो
बच्चों को
ये तो बुरी बात है।

बड़े हो तो बड़ी सजा देते हो
बच्चों को
ये तो बुरी बात है।
इज्जत से जीने न देते हो
बच्चों को
ये तो बुरी बात है।