भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये दिल में वसवसा क्या पल रहा है / आसिफ़ 'रज़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये दिल में वसवसा क्या पल रहा है
तेरा मिलना भी मुझ को खल रहा है

जिसे मैं ने किया था बे-ख़ुदी में
जबीं पर अब वो सजदा जल रहा है

मुझे मत दो मुबारक-बाद-ए-हस्ती
किसी का है ये साया चल रहा है

सर-ए-सहरा सदा दिल के शजर से
बरसता दूर इक बादल रहा है

फ़साद-ए-लग़्ज़िश-ए-तख़लीक़-ए-आदम
अभी तक हाथ यज़दाँ मल रहा है

दिलों की आग क्या काफ़ी नहीं है
जहन्नम बे-ज़रूरत जल रहा है