भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये शहर / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये शहर
जबरन घुसा जाता
हमारे गाँव में

एक सपना
सा हुआ
करता कभी था ये शहर
अब सभी सपनों के ऊपर
ढा रहा है ये कहर

ये शहर
लालच सिखाता है
हमारे गाँव में

सड़क क्या आई
शहर से
शोर भरकर साथ लाई
गुनगुनाते भोर की अब
गाँव से होती विदाई

ये शहर
कचरा बहाता है
हमारे गाँव में

गाँव में
जंगल नहीं अब
लग गए भट्ठे वहाँ पर
लहलहाते धान थे
कंक्रीट के जंगल जहां पर

ये शहर
अब मुँह छुपाता है
हमारे गाँव में।