भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये सारे मज़हबी सियासत के आक़ा / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये सारे मज़हबी सियासत के आक़ा
मोहब्बत के दुश्मन हैं नफ़रत के आक़ा
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना

अक़ीदत के ताजिर हैं ठगते हैं सबको
ये पा जाएँ मौक़ा तो छोड़ें न रब को
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना

ये औरत से पढ़ने का हक़ छीन लेंगे
रिवायत से लड़ने का हक़ छीन लेंगे
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना

ये इंसानियत की ज़बाँ काट देंगे
ये हक़ बात को बोलने भी न देंगे
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना

लड़ाते हैं मासूम लोगों को अक्सर
कराते हैं ये मुल्क में ख़ून-ख़च्चर
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना

अगर चाहते हो कि अम्न-ओ-अमाँ हो
कि कुछ और कुछ और बेहतर जहाँ हो
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना
इन्हें भूल कर भी हुकूमत न देना