भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये सोचकर कि तेरी ज़वीं पर न बल पड़े / शहजाद अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये सोचकर कि तेरी ज़वीं पर न बल पड़े
बस दूर ही से देख लिया और चल पड़े

ऐ दिल तुझे बदलती हुई रुत से क्या मिला
पौधों में फूल और दरख्तों में फल पड़े

सूरज सी उसकी तबा है शोला सा उसका रंग
छू जाये उस बदन को तो पानी उबल पड़े