भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये हादसा मेरी आँखों से गर नहीं होता / चित्रांश खरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये हादसा मेरी आँखों से गर नहीं होता
तो कोई ग़म भी मेरा हमसफर नहीं होता

हवा के खौफ से लो थरथराती रहती है
बुझे चराग़ को आँधी का डर नहीं होता

कदम-कदम पे यहां ग़म की धूप बिखरी है
कोई सफर भी खुशी का सफर नहीं होता

खुदा की तरह मेरे दिल में गर न तू बसता
तेा मेरा दिल भी इबादत का घर नहीं होता

किसी को यूं ही वफाओं से मत नवाज़ा कर
कि बेवफा पे वफा का असर नहीं होता