भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये हासिल है तो क्या हासिल बयाँ से / मोमिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये हासिल है तो क्या हासिल बयाँ से
कहूँ कुछ और कुछ निकले ज़ुबाँ से

बुरा है इश्क़ का अंजाम यारब
बचना फ़ितना-ए-आखिर ज़माँ से

मेरा बचना बुरा है आप ने क्यों
अयादत की लब-ए-मोजज़ बयाँ से

वो आए हैं पशेमाँ लाश पर अब
तुझे ए ज़िन्दगी लाऊँ कहाँ से

न बोलूँगा न बोलूँगा कि मैं हूँ
ज़्यादा बद गुमाँ उस बदगुमाँ से

न बिजली जलवा फ़रमा है न सय्याद
निकल कर क्या करें हम आशयाँ से

बुरा अंजाम है आग़ाज़-ए-बद का
जफ़ा की हो गई खू इमतिहाँ से

खुदा की बेनियाज़ी हाय 'मोमिन
हम ईमाँ लाए थे नाज़-ए-बुताँ से

शब्दार्थ:
लब-ए-मोजज़: बीमार का हाल जानना, आग़ाज़-ए-बद: बुरा, खू: आदत, बेनियाज़ी: लापरवाही, नाज़-ए-बुताँ: हसीनों के नख़रे