भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

योजनाओं का शहर-2 / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह अपनी योजना में
लाखों लोगों का नियन्ता है
--जब उसने यह कहा तो उसके चेहरे का रंग
बदलने लगा
उसने मेरा चेहरा पढ़ने की कोशिश की
शायद वह भाँप रहा था कि
मैम उसकी योजना से
अभिभूत हो रहा हूँ कि नहीं
मैं उससे डर रहा हूँ कि नहीं
फिर उसने मेरी तरफ़ चाय की प्याली
इस तरह बढ़ाई
जैसे मुझ पर कृपा कर रहा हो
एक और शख़्स ने बताया कि
अगले पाँच सालों में
वह एक बड़ा सौदागर बनकर रहेगा
तब वह एक सड़क ख़रीदेगा
और उसका नाम बदलकर
अपने दादा के नाम पर रख देगा।