भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

योजनाओं का शहर-6 / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

योजनाओं में यह शहर
धरती पर नहीं रह गया था
इसका अपना एक अलग अक्ष था
यह स्वर्ग की परिक्रमा करता था
योजनाओं में बस एक मौसम था
और सूर्यास्त का कोई ज़िक्र नहीं था

शाम के झुटपुटे में रोज़ लौटती थी
याचकों की एक भीड़
न जाने अपने भीतर कितनी खरोंचे लिए
योजनाकारों को कभी नहीं दिखते थे वे लोग
जो किसी तरह बचते-बचाते
पता नहीं किस दिशा में जा रहे होते थे

एक दिन इसी तरह
कुछ सूअर सड़क पार कर रहे थे
योजनाओं के नशे में डूबे लोगों ने
उन्हें देखा तो डर गए
उन्हें लगा यह कोई बुरा सपना है।