भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यो के भयो, भयो देशमा / राजेश्वर रेग्मी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


यो के भयो– भयो देशमा, हरे शिव !
हराउँछौ कि एक निमेषमा हरे शिव !

कसैले केही बताउनै चाहँदैनन् !
रहस्य छ पक्कै यसमा, हरे शिव !

खेलहरु खेल्न सबै छोडी दिएर
लागे ‘चियर रेस’मा, हरे शिव !

के देखेको आज यो हामीहरुले,
किन आयौ यस्तो भेषमा, हरे शिव !

भागे भने सबै जसो यहाँबाट,
लुकिदिन्छु म त तिम्रो केशमा, हरे शिव !