भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यो जिन्दगी कति भेष बदलिरहन्छ / सुरेन्द्र राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


यो जिन्दगी कति भेष बदलिरहन्छ
कहीँ साधु कहीँ चोर बनी परिवेश बदलिरहन्छ

हेर्दाहेर्दै आँखाहरू थाहै नपाई मनहरूमा
कहीँ आफन्तको कहीँ पराईको ठेस लागिरहन्छ

कति साह्रो नक्कले रहेछ यो जिन्दगी
बिना ऐना बिना काँइयो केस कोरिरहन्छ ।