भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंगीन चमकीली चीजें / 'सज्जन' धर्मेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंगीन चमकीली चीजें प्रकाश के उन रंगों को
जो उनके जैसे नहीं होते
सोख लेती हैं
और उनकी ऊर्जा से अपने रंग बनाती हैं
और हम समझते हैं कि ये उनके अपने रंग हैं

जिन्हें हम रंगीन वस्तुएँ कहते हैं,
वे दरअसल दूसरे रंगों की हत्यारी होती हैं

केवल आइना ही है
जो किसी भी रंग की ऊर्जा का इस्तेमाल
अपने लिए नहीं करता
सारे रंगों को जस का तस वापस लौटा देता है
इसीलिए आइना हमें सच दिखा पाता है

बाकी सारी वस्तुएँ
केवल रंग-बिरंगा झूठ बोलती हैं
जो वस्तु जितनी ज्यादा चमकीली होती है
वो उतना ही बड़ा झूठ बोल रही होती है