भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंगों का धूम-धड़क्का / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर रंगों का धूम-धड़क्का, होली आई रे,
बोलीं काकी, बोले कक्का-होली आई रे!
मौसम की यह मस्त ठिठोली, होली आई रे,
निकल पड़ी बच्चों की टोली, होली आई रे!

लाल, हरे गुब्बारों जैसी शक्लें तो देखो-
लंगूरों ने धूम मचाई, होली आई रे!
मस्ती से हम झूम रहे हैं, होली आई रे!
गली-गली में घूम रहे हैं, होली आई रे!

छूट न जाए कोई भाई, होली आई रे!
कह दो सबसे-होली आई, होली आई रे!
मत बैठो जी, घर के अंदर, होली आई रे!
रंग-अबीर उड़ाओ भर-भर, होली आई रे!

जी भरकर गुलाल बरसाओ, होली आई रे!
इंद्रधनुष भू पर लहराओ, होली आई रे!
फिर गुझियों पर डालो डाका, होली आई रे!
हँसतीं काकी, हँसते काका- होली आई रे!