भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंग और काष्ठ नहीं / भारत भूषण तिवारी / मार्टिन एस्पादा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंग और काष्ठ नहीं
मैने उसे नेरूदा के घर देखा था
एक सदी पहले तराशी गयी
जहाज़ के अगले हिस्से से
लहरों की चौकसी करने की खातिर,
गज़ब की कत्थई आँखों
और बलखाती जुल्फों के साथ,
खामोश जब चक्कर काटती
कवि की मेज के ऊपर

बार में उस रात
वह नमूदार हुई मेरी कुहनी से सटी
वही आँखें, वहीं जुल्फें
रंग और काष्ठ नहीं बल्कि हाड़-मांस
उन्हें पसन्द है मेरा थिर रहना
वह बनावटी हँसी के साथ बोली।
मुझे पसन्द नहीं थिर रहना
मैं चढ़ना चाहती हूँ
माँचू पीच्चू की सीढ़ियाँ
मैं कविता की बात करना चाहती हूँ रात भर
मैं और हाला चाहती हूँ।