भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंग बोलते हैं / विजय गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न सुनो, लेकिन
रंग बोलते हैं
वाणी के संकेतों
और भाषिक चिन्हों
से अलग
कुछ और कुछ भिन्न !

सफेद,
मरे हुए कबूतर का भी तो रंग है,
शांति, संधि और समर्पण के
अलावा भी
कुछ और कुछ भिन्न !

लाल,
मार दिए गए
आदमी का भी तो रंग है,
शहादत, वीरता, क्राँति के
अलावा भी
कुछ और कुछ भिन्न !

हरा,
काट दिए गए
जंगलों का भी तो रंग है,
पेड़, हरियाली, कुल्हाड़ी के
अलावा भी
कुछ और कुछ भिन्न !

घुप्प काला,
समय और इतिहास का भी तो
रंग है,
पल, छन, संवत्, संवत्सर के
अलावा भी
कुछ और कुछ भिन्न !

सुनो कि,
रंग बोलते हैं ।