भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंजिशो में ज़िन्दगी मत काटिए / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंजिशो में ज़िन्दगी मत काटिए
प्यार की दौलत ही सब में बाँटिये

आपके अपने सभी इंसान हैं
खाइयां रिश्तो की पहले पाटिये

ग़र ख़ुशी पानी है तो ग़म भी सहो
नश्तरों से फूल थोड़े छांटिए

डर गया तो फिर संभल न पायेगा
आप बच्चे को न ऐसे डांटइए

सारे मज़हब एक हो जाये सिया
इस दुआ के साथ चाहत बाँटिये