भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रउरा हँसते बिहान होइ जाला / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रउरा हँसते बिहान होइ जाला
चान अचके सेयान होइ जाला

मदभरल नैन सपनन में डूबे
आजु गजबे परान होइ जाला

जइसे फगुआ के पहरा गलिन में
फूल सगरो जवान होइ जाला

प्रीत सागर छलकि जाला भरिके
जिंदगी के नहान होइ जाला

रउरा अँखियन में अपना के पाके
मन 'विमल’ बेइमान होइ जाला