भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रज़ा (विख्यात चित्रकार)-3 / पुरुषोत्तम अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्दों को नाकाफी देख
मैं तुम तक पहुंचाना चाहता हूं
कुछ स्पर्श
लेकिन केवल शब्द ही हैं
जो इन दूरियों को पार कर
परिन्दों से उड़ते पहुंच सकते हैं तुम तक
दूरियां वक्त की, फासले की
तय करते शब्द-पक्षियों के पर मटमैले हो जाते हैं
और वे पहुंच कर जादुई झील के पास
धोते हैं उन्हें तुम्हारी निगाहों के सुगंधित जल में.