भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रड़कै प्रीत / हनुमान प्रसाद बिरकाळी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर री
मान मरजादा
बाप री आण
पाघ री कांण
रोप दियो पग
आंख्यां में पण
सुपनां कुंआरा।

आंख्यां ढळकै
गरळ-गरळ आंसूड़ा
दिखण में दिखै
घर रो मोह
रड़कै पण प्रीत।