भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रथवान साथ है / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रथवान ग़र है साथ तो रथ का भी मान है
बिन सारथी के रथ ये अर्थी के समान है
अपने विचारों का ज़रा रुख तो बदल के देख
जो सोचिये मिल जायेगा यह ही विधान है
मुरली की धुन सुनने लगे हैं कान जब से ये
दिल को मिला है चैन और तन में जान है
छूनी पड़ें गर सूलियां तो वो भी छू लेंगे
ये आशिको की राह तो लोहूलुहान है
तप-तप के तुम कुंदन बनोगे और पारसा
यह प्रेम की अग्नि ही तेरी आनबान है।