भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रनुबाई का अंगणा मऽ ताड़ को झाड़ / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रनुबाई का अंगणा मऽ ताड़ को झाड़
माता ताड़ को झाड़, वहाँ रहे देवी को रहेवास।
माता आड़ी रूळतो घागरो, न कड़ी रूळता केश,
माता गोदी लियो बाजुड़ो, न पेळो पेरी जाय।