भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रप्पूँ-रप्पूँ / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज हो गया रिक्शा पंचर,
बोझ धरे बस्ते का सिर पर,
रप्पूँ-रप्पूँ, पैदल चलते-
चलते घर तक आया हूँ।

मम्मी, तुमको क्या बतलाऊँ,
भूख लगी है, पहले खाऊँ,
देखो, अपना लंच अभी तक
पूरा न खा पाया हूँ।

और सुनो, वह गुड्डी है ना,
उसकी बुक वापस है देना,
होमवर्क के चक्कर में
अब तक न लौटा पाया हूँ।