भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राखी रऽ गीत / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हय राखी के डोर
भैया बहिनी के लोर
ऐतना परेम बहै छै
लगै छोर-छोर-छोर

राखी के दिन बारी, ”धीरज“ राखै
अपनोॅ भैया सोॅ शुभ वर मांगै।
बान्ही सुता के डोर
देखै आँखी मेॅ भोर
ऐतना प्रेम बहै छै
लगै छोर-छोर-छोर...

मैया दुलारी बाबा पियारी
भैया के असरा सेॅसोसे जिनगी
करै छै झिकाझोर
कुछ मांगै लेॅ इंजोर
ऐतना प्रेम बहै छै
लगै छोर-छोर-छोर...

परेम के नाम सेॅ भरलोॅ बगिया
भाय-बहिन दुनिया केऽ हटिया
नाचैऽ मोद मलोर
होय केॅ भाव विभोर
ऐतना प्रेम वहै छै
लगै छोर-छोर-छारे...