भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

राजदुलारी सो जा / शकुंतला सिरोठिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी गुड़िया, सो जा तू।
अपने चुन्ने-मुन्नों को ले
चिड़ियां सोने जातीं,
बड़े प्यार से उनको
अपनी छाती से चिपकातीं।
शेरू सोया, पूसी सोई
पिंजरे की चुनमुनिया सोई,
ले मैंने भी आंखें मींचीं,
बिटिया रानी, सो जा तू।