भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राज़ केॾा न उघाड़े वेई / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राज़ केॾा न उघाड़े वेई।
माठि सभु मर्म लताड़े वेई॥

मुंहिंज ख़्वाबनि जो वसाए घरु, हूअ।
निन्ड जो शहरु उजाड़े वेई॥

ज़िंदगी शान्त ऐं सुख वारो वर्कु।
मुंहिंजे पुस्तक मां ई फाड़े वेई॥

दिल ते पिया दर्द जे भय जा पाछा।
शाम जिअं उस खे उजाड़े वेई॥

हालतुनि जी छिती बुख नेठि कमल।
मुंहिंजे टहकनि खे चॿाडे वेई॥