भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रातिए जे एलै रानु गउना करैले / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रातिए जे एलै रानु गउना करैले,
कोहवर घर में सुतल निचित ।
जकरो दुअरिया हे रानो कोसी बहे धार
सेहो कैसे सूते हे निचित ।।
सीरमा वैसल हे रानो कोसिका जगावे,
सूतल रानो उठल चेहाय ।
काँख लेल धोतिये हे रानो मुख दतमनि
माय तोहरा हँटौ हे रानो बाप तोरा बरजौ
जनु जाहे कोसी असनान ।
हँटलो न माने रानो दबलो न माने
चली गेलै कोसी असनान ।।
एक डूब लेल हे कोसी दुई डूब लेल
तीन डूब गेल भसियाय ।
जब तुहू आहे कोसिका हमरो डुबइवे,
आनव हम अस्सी मन कोदारि ।
अस्सी मन कोदरिया हे रानो,
बेरासी मन वेंट,
आगू आगू धसना धसाय ।।