भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रातों का तसव्वुर है उनका और चुपके-चुपके रोना है / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रातों का तसव्वुर है उनका और चुपके-चुपके रोना है ।
ऐ सुब्‍ह के तारे तू ही बता अन्जाम मिरा क्या होना है ।

इन नौ-रस आँखों वालों का क्या हँसना है, क्या रोना है,
बरसे हुए सच्चे मोती हैं बहता हुआ ख़ालिस सोना है ।

दिल को खोया ख़ुद भी खोए, दुनिया खोई, दीन भी खोया,
ये गुम-शुदगी है तो इक दिन ऐ दोस्त तुझे भी खोना है ।

तमईज़-ए-कमाल-ओ-नक्स उठा ये तो रौशन है दुनिया पर,
मैं चन्दन हूँ तू कुन्दन है मैं मिट्टी हूँ तू सोना है ।

तू ये न समझ लिल्लाह कि है तस्कीन तिरे दीवानों को,
वहशत में हमारा हँस पड़ना दर-अस्ल हमारा रोना है ।

मातम है मेरी आवाज़ शिकस्त-ए-साज-ए-दिल-ए-सद-पारा का
’सागर’ मेरा नग़्मा भी दीपक के सुरों में रोना है ।