भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घिरने लगे नींद के बादल
दुखने लगा आँख का काजल
               शाम सो गई है ।
अब तो रात हो गई है ।।

रंग-बिरंगी परदों वाली
जिसमें बैठी थी उजियाली
दीख रही अब ऐसी काली
खिड़की नहीं रही जैसे --
           दवात हो गई है ।
अब तो रात हो गई है ।।

कपड़े आँगन में चमकीले
दिन भर सूखे नीले-पीले
फिर से होने लगे पनीले
घर-बाहर जैसे हल्की --
         बरसात हो गई है ।
अब तो रात हो गई है ।।

जगह-जगह पर बल्ब निराले
जले रोशनी के रखवाले
तम से लड़ते हिम्मत वाले
वीरों की उजली सेना --
           तैनात हो गई है ।
अब तो रात हो गई है ।।