भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात की ग़ार में उतरने का / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात की ग़ार में उतरने का
आ गया वक़्त फिर बिखरने का

उसकी रफ़्तार से तो लगता है
वो कहीं भी नहीं ठहरने का

नींद टूटी तो मुझको चैन पड़ा
ख़्वाब देखा था अपने मरने का

तन से पत्थर बँधे हुए हैं मिरे
मैं नहीं सत्ह पर उभरने का