भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात को जब तारे अपने रोशन गीत सुनाएँगे / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात को जब तारे अपने रोशन गीत सुनाएँगे ।
हम भी दिल की गरमी से दुनिया को गरमाएँगे ।

फूल ज़रा खिल जाने दे सहन ए गुलशन में साक़ी,
इक पयमाना चीज़ है क्या मयख़ाना पी जाएँगे ।

साक़ी को बेदार करो मयख़ाना क्यूँ सूना है,
बादल तो घिर आए हैं मयकश भी आ जाएँगे ।

उनसे कहने जाते हैं बेताबी अपने दिल की,
वो रूदाद-ए ग़म सुन कर देखें क्या फ़रमाएँगे ।

फूलो, तुम महफूज़ रहो बाद-ए खिज़ाँ के झोंकों से,
अब हम रुखसत होते हैं इक दिन फिर से आएँगे ।

सावन की बरसातों में तेरा मलहारें गाना,
ये लम्हे याद आएँगे याद आ कर तड़पाएँगे ।

वो सोते हैं तो सोने दो वा है आग़ोश-ए उलफ़त,
कहते-कहते अफ़साना हम भी तो सो जाएँगे ।

बाक़ी इक रह जाएगा नक्श ’ज़िया’ ए उलफ़त का,
दुनिया भी मिट जाएगी और हम भी मिट जाएँगे ।