भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात बनि ठनि केॅ ठगै छै हमरा / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात बनि ठनि केॅ ठगै छै हमरा
रूप नागिन सन लगै छै हमरा

आदमी खून के ही प्यासल छै
हास क्रन्दन सन लगै छै हमरा

राह चलते यहाँ राही लूटै
दोस्त रहजन सन लगै छै हमरा

है कदर जीना भला की जीना
जान उलझन सन लगै छै हमरा

तों एन्होॅ बेनकाब करने छोॅ
लाज दरपन से लगै छै हमरा।