भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात भर बर्फ़ गिरती रही है / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात भर बर्फ़ गिरती रही है
आग जितनी थी सब बुझ गई है

शम्अ कमरे में सहमी हुई है
खिड़कियों से हवा झाँकती है

सुब्ह तक मूड उखड़ा रहेगा
शाम कुछ इस तरह से कटी है

हमसे तावीज़ भी खो गया है
और ये आहट भी आसेब की है

सब पुराने मुसाफ़िर खड़े हैं
अब तो मंज़िल भी उकता गई है

उम्र भर धूप में रहते-रहते
ज़िन्दगी साँवली हो गई है