भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात लोरियाँ गा रही है / अंजना वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुन! रात लोरियाँ गा रही है
 मुन्ने तू सो जा
सोये सभी बसेरों में
तू सपनों में खो जा

बादल की चादरिया ओढ़े
झिलमिल-झिलमिल वाली
चंदा मना रहा है नभ के
आँगन में दीवाली
तारों के दीपक जागेंगे
टिमटिम तू सो जा।

निंदिया ने सारी दुनिया पर
कैसा जादू फेरा!
सूरज भी थककर सोया है
कैसे ओढ़ अंधेरा
पाखी के पंखों में बच्चे
सोये तू सो जा