भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

राधा तोरा घरऽ आया मिजवान / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

राधा तोरा घरऽ आया मिजवान
हमरा आदर करना गे।
तोरी जांघ जबरदस्त, हमराबईल बँधेंगे।।
तोरी नागझिरी का पानी
हमरा बईल पियेंगे।।
तोरा फाटक पऽ दूध
हमरा बईल चरेंगे।।
समधन तोराऽ घरऽ आया मिजवान
हमरा आदर करना गे।।